15.1 C
Delhi

Xenobots | स्टेम सेल से बना दुनिया का पहला Xenobot

जरूर पढ़े!

DG
जो धर्म डराए, जो किताब भ्रम पैदा करे, उसमें शिद्दत से सुधार की जरूरत है!

वाशिंगटन से ख़बर आई कि अमेरिकी वैज्ञानिकों ने दुनिया का पहला जीवित रोबोट (Xenobots living robots) बनाने में सफलता प्राप्त कर ली है! सोचिए, कि अब इन्सानों ने ही ऐसे Xenobot बना लिए हैं। जो स्वयं प्रजनन भी कर सकते हैं। और इनकी खास बात ये कि इनके जैविक प्रजनन का तरीका जानवरों और पौधों से बिल्कुल अलग होगा। जी हाँ, दुनिया का पहला जीवित रोबोट जिसे जेनोबोट्स (Xenobots) नाम दिया गया, अब दुनिया के सामने आ चुका है।

अमेरिका के टफ्ट्स और वरमोंट विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने मेंढ़कों की स्टेम कोशिकाओं (Stem cells) से ऐसे रोबोट विकसित कर लिए हैं। कंप्यूटर विज्ञान, रोबोटिक्स और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के प्रोफेसर जोश बोंगार्ड वरमोंट कहते हैं कि अभी भी ज़्यादातर लोग रोबोट को धातु और फाइबर से बना ही समझते हैं। जेनोबोट्स परंपरागत रोबोट की तरह नहीं है, न ही इनके पास गियर हैं और न ही कोई आर्म्स हैं! यह आनुवांशिक रूप से अपरिवर्तित मेंढक की कोशिकाओं से बना एक पूरा जीव है।

वैज्ञानिक इसे और सक्षम बनाने के लिए आगे के परीक्षण कर रहे हैं। इन सभी वैज्ञानिकों का कहना है कि विज्ञान के क्षेत्र में जानवर या पौधे से अलग जैविक प्रजनन एक बिल्कुल नई खोज है।

Living Xenobot
The manufactured organism from just above is layered with heart muscle (now glowing red). AI determined the overall shape of the organism, as well as the location of its muscle, to produce forward movement. (Wiki)

Living Robots क्या है?

जेनोबोट्स (Xenobot) दुनिया का पहला सिंथेटिक रूप से जीवित जीवन (Xenobots living robots) है। जिसे कंप्यूटर द्वारा कुछ आवश्यक कार्य हेतु डिज़ाइन किया गया है। इसे विभिन्न जैविक ऊतकों को एक साथ जोड़कर बनाया गया है। सबसे पहले जेनोबोट्स का निर्माण डगलस ब्लैकिस्टन द्वारा AI प्रोग्राम की मदद से उत्पन्न ब्लूप्रिंट के अनुसार बनाया गया था, जिसे बाद में सैम क्रेगमैन द्वारा और विकसित किया गया। जेनोबोट्स (Xenobot) को साल 2020 में पहली बार दुनिया के सामने पेश किया गया। अब तो जेनोबोट्स (Xenobot) जैविक (Biological) रोबोट का अपडेट वर्जन भी आ चुका। इस जिंदा रोबोट को वैज्ञानिकों ने मेंढक की कोशिकाओं से तैयार किया है।

यह छोटा रोबोट कई काम कर सकता है। कई एकल (Single) कोशिकाओं को जोड़ कर अपना शरीर बना सकता है। यूं समझिए कि यह पूरे सिस्टम के रूप में काम करता है। आगे इन मुलायम शरीर वाली जीवित मशीनों की मदद से जैव-चिकित्सा और पर्यावरण में कई अनुप्रयोग किए जा सकेंगे।

Xenobots living robots (4x-Speed)

Xenobots को कैसे बनाया गया?

जेनोबोट्स (Xenobots) को बनाने के लिए, वैज्ञानिकों ने अफ्रीकी मेंढकों (African clawed frog) जिनका Binomial Name > Xenopus laevis है कि स्टेम कोशिकाओं (Stem cells) का उपयोग किया है। (Xenopus laevis) में ज़ेनोपस शब्द का अर्थ होता है ‘अजीब पैर’ और लाविस का अर्थ है ‘चिकना’। जेनोबोट्स (Xenobot) का निर्माण पारंपरिक रोबोट की तरह ही किया जाता है। सिर्फ इसमें आकृति के निर्माण और अनुमानित व्यवहार तैयार करने के लिए Synthetic Components के बजाय कोशिकाओं और ऊतकों का उपयोग किया गया है। पहले मेंढक के भ्रूण से जीवित स्टेम कोशिकाओं (Stem cells) को Scrap किया और उन्हें Incubate करने के लिए छोड़ दिया। आज तक बनाए गए जेनोबोट्स 1 मिलीमीटर (0.039 इंच) से कम चौड़े हैं और केवल दो चीजों से बने हैं: त्वचा की कोशिकाएं और हृदय की मांसपेशी कोशिकाएं से, दोनों ही प्रारंभिक (Blastula stage) मेंढक के भ्रूण से काटी गई स्टेम कोशिकाओं (Stem cells) से प्राप्त होती हैं।

जेनोबोट्स के 10 महत्वपूर्ण तथ्य:

  1. जेनोबोट्स जैविक प्रजनन कर सकते हैं!
  2. जेनोबोट्स अपनी मेमोरी रिकॉर्ड कर सकते हैं!
  3. जेनोबोट्स एक जीवित, प्रोग्राम करने योग्य जीव हैं!
  4. ये रोबोट “काइनेटिक प्रतिकृति” का इस्तेमाल करते हैं!
  5. ये रोबोट भोजन के बिना हफ्तों तक जीवित रह सकते हैं!
  6. जेनोबोट्स अपने परिवेश के बारे में जानकारी दे सकते हैं!
  7. यह रोबोट मानव शरीर में आसानी से चल और तैर सकते हैं!
  8. यह जीवित जेनोबोट्स समूहों में एक साथ काम कर सकते हैं!
  9. सूक्ष्म कणों ‘सिलिया’ (Cilia) का उपयोग करके चल सकते हैं!
  10. जेनोबोट्स घावों से हुई क्षति के बाद स्वयं को ठीक करने में सक्षम हैं!

वैज्ञानिकों के अनुसार जेनोबोट्स, जो शुरू में गोलाकार थे और लगभग 3,000 कोशिकाओं से बने थे, ये खुद को रिप्लिकेट कर सकते हैं। जेनोबोट्स “काइनेटिक प्रतिकृति” का इस्तेमाल करते हैं। ये एक ऐसी प्रक्रिया है जिसे आणविक स्तर पर परखा गया है।

Building living robots (Xenobots)

जेनोबोट्स मानव शरीर में कैंसर कोशिकाओं नष्ट करने और उपचार हेतु दवाओं को ले जा सकता है। भविष्य में समुद्र से माइक्रोप्लास्टिक्स को हटाने के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जा सकेगा।

अधिक जानकारी के लिए महत्वपूर्ण लिंक:
  1. Wiki Xenobot
  2. Computer Designed Organisms
  3. A Scalable Pipeline for Designing Reconfigurable Organisms
  4. AI-Designed ‘Living Robots’ Crawl, Heal Themselves
- Advertisement -

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -